शिक्षा व्यवस्था :

महाराणा प्रताप स्पोर्टस कालेज, देहरादून में शिक्षा विभाग द्वारा निर्धारित विषयों एवं पाठयक्रम में केवल हिन्दी माध्यम में कक्षा-6 से 12 तक कला वर्ग में शिक्षण की व्यवस्था है।

प्रवेश अर्हतायें :
1. प्रवेश केवल कक्षा-6 एवं कक्षा-9 में ही प्रदान किया जायेगा।

2. प्रवेशार्थी उत्तराखण्ड प्रदेश का अधिवासी हो।

3. प्रवेश के समय बालक की आयु दिनांक 01.07.2016 को कक्षा-6 में 12 वर्ष तथा कक्षा-9 में 15 वर्ष से अधिक न हो।

4. स्वस्थ शरीर एवं खेल के प्रति अभिरूचि।

5. चिकित्सा परीक्षण

मुख्य चयन परीक्षा के दौरान अभ्यर्थी का चिकित्साधिकारी द्वारा चिकित्सा फिटनेस व आयु परीक्षण किया जायेगा। इसमें उपयुक्त पाये जाने पर ही अभ्यर्थी को अनितम चयन हेतु योग्य समझा जायेगा।

 

प्रमाण पत्र :

(अ) मुख्य चयन परीक्षा में सम्मलित होने से पूर्व छात्र को फोटो सहित आवेदन पत्र के साथ निम्नलिखि प्रमाणपत्र संलग्न करना अनिवार्य है।

1. जन्मतिथि प्रमाण पत्र जो नगर निगम/नगर पालिका/नगर पंचायत/ग्राम पंचायत द्वारा प्रदत्त हो।

2. कक्षा-6 में प्रवेश हेतु 5वीं पास व कक्षा-9 के लिए 8वीं पास का अंकपत्र।

3. मूल निवास /स्थार्इ निवास प्रमाण पत्र। (डेमोसार्इल प्रमाणपत्र)

 

(आ) अन्तिम रूप से चयन की सिथति मेंं छात्र को कालेज में निम्नलिखित प्रमाण पत्र जमा करना अनिवार्य है :-
1.पूर्व विधालय द्वारा जारी किया गया छात्र का मूलरूप में स्थानान्तरण प्रमाण पत्र जो सम्बनिधत जिले के जिला विधालय निरीक्षक बेसिक शिक्षाधिकारी उप विधालय निरीक्षक द्वारा प्रतिहस्ताक्षित हों साथ ही कक्षा-5 परीक्षा का अंक पत्र।

2. डोमीसार्इल सर्टीफिकेट (मजिस्ट्रेट द्वारा प्रमाणित अधिवास प्रमाण पत्र) मूलरूप में।

3. रु 100- (रु एक सौ मात्र) के नान जुडीशियल स्टैम्प पेपर पर कालेज के साथ एग्रीमेन्ट बाण्ड लाना आवश्यक है।

4. प्रवेशार्थी की पासपोर्ट आकार की चार एक जैसी फोटो।

5. अभिभावक द्वारा छात्र का जीवन बीमामेडिकल बीमा करवाया जाना आवश्यक है। जिसका प्रमाण प्रत्येक वर्ष कालेज में देना होगा।

कालेज शुल्क (फीस) :
प्रत्येक छात्र से कक्षावार वार्षिक कालेज शुल्क निम्नवत लिया जायेगा :-

कक्षा  वार्षिक शुल्क कक्षा वार्षिक शुल्क
6 रु0 2000.00 10 रु0 4000.00
7 रु0 2500.00 11 रु0 4500.00
8 रु0 3000.00 12 रु0 5000.00
रु0 3500.00    


काशन मनी :
अभिभावक को छात्र के प्रवेश के समय रु0 1000- काशन मनी के रूप में जमा करना अनिवार्य है। छात्र के अनितम रूप में कालेज छोड़ने पर कटौतियों के पश्चात इस मद की जो भी धनराशि शेष बचती है छात्र को वापस कर दी जायेगी। इससे पूर्व अभिभावक द्वारा छात्र को कालेज से हटा लेने पर काशन मनी जब्त कर ली जायेगी एवं उसे कटौतियों का भुगतान अलग से करना होगा। कालेज छात्रावास में छात्र द्वारा की गर्इ टूट-फूट एवं वार्षिक सामान्य टूट-फूट (जनरल बे्रकेज) की वसूली इस मद से करते हुए धनराशि जब्त कर ली जायेगी।
 

विविध व्यय :
प्रत्येक छात्र को रु0 1500- की धनराशि पूरे वर्ष हेतु विविध व्यय मद में जमा करनी होगी। जिसमें कपड़ा धुलार्इ, प्रेस, बाल कटार्इ आदि पर खर्च की जायेगी, तथा रु0 2400- (रु0 2000 पाकेटमनी एवं रु0 400 बैड कवर) की धनराशि पाकेटमनी के रूप में कालेज के खाते में जमा की जायेगी, जिससे बालक की मांग पर राज्यराष्ट्रीय प्रतियोगिता में भाग व अन्य मासिक खर्चो हेतु प्रधानाचार्य की अनुमति के पश्चात बालक को उपलब्ध करायी जायेगी। (रु0 400-पाकेटमनी के साथ बैड कवर हेतु देने होंगे, अत: कुल धनराशि रु0 2,400-)


नोट: कालेज शुल्क की धनराशि एकमुश्त प्रवेश के समय सत्रारम्भ में बैंक ड्राफ्ट द्वारा जमा की जानी होगी। अभिभावकों को स्वयं ही समयानुसार फीस जमा करनी होगी। कालेज में एक साथ शिक्षा पा रहे दो भार्इयों अथवा एक ही अभिभावक पर आश्रित पाल्यों की फीस में किसी प्रकार की कोर्इ छूट प्रदान नहीं की जायेगी। नकद अथवा चैक द्वारा फीस स्वीकार नहीं की जायेगी। कालेज फीस बैंक ड्राफ्ट द्वारा ही स्वीकार की जायेगी। बैंक ड्राफ्ट, प्रधानाचार्य, महाराणा प्रताप स्पोर्टस कालेज, रायपुर देहरादून के पक्ष में देय होगा।

फीस, काशनमनी, विविध व्यय, पाकेटमनी की कुल धनराशि अलग-अलग बैंक ड्राफ्ट द्वारा प्रधानाचार्य महाराणा प्रताप स्पोर्टस कालेज, रायपुर देहरादून के पक्ष में देय होगी, जिसका विवरण प्रवेश पत्र में अंकित किया जायेगा।
 

छात्रवृति व फीस माफी :-
मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में अच्छा प्रदर्शन करने पर छात्र द्वारा कालेज में जमा फीस प्रोत्साहन स्वरूप निम्न प्रकार से वापस की जायेगी।
1. प्रथम स्थान (गोल्ड मेडल)             -         शत प्रतिशत।
2. द्वितीय स्थान (सिल्वर मेडल)         -         66 प्रतिशत।
3. तृतीय स्थान (ब्राउन्ज मेडल)         -          33 प्रतिशत।

साथ ही शिक्षा विभाग द्वारा भी राष्ट्रीय विधालयी प्रतियोगिता में पदक प्राप्त करने पर खेल छात्रवृति दी जाती है। उत्तराखण्ड खेल विभाग द्वारा भी राष्ट्रीय स्तर पर पदक प्राप्त करने पर प्रोत्साहन राशि दी जाती है। खेल के साथ-साथ व बोर्ड परीक्षाओं में अच्छे अंक अर्जित करने वाले छात्रों को कालेज द्वारा सम्मानित किया जाता है।

छात्र द्वारा कालेज छोड़ना एवं निष्कासन : अभिभावक द्वारा छात्र को कालेज से हटाने हेतु आगामी सत्र प्रारम्भ होने से पूर्व कालेज को सूचना देना अनिवार्य है। इस प्रकार की सूचना न दिये जाने की दशा में समस्त सिक्योरिटी जब्त की जा सकती है। इस के अतिरिक्त कालेज द्वारा सत्र में छात्र के शिक्षण एवं प्रशिक्षण पर किये गये समस्त व्यय की वसूली भी की जा सकती है।

कालेज एवं छात्रों के हित में प्रधानाचार्य निम्नलिखित कारणों से छात्रों को भी निष्कासित कर सकते है। इस सिथति में कालेज द्वारा सत्र में छात्र पर किये गये पूर्ण व्यय की वसूली उसके अभिभावक से की जा सकती है।

1.यदि किसी छात्र ने कालेज के अनुशासन को नहीं माना है या छात्र का व्यवहार कालेज के स्टाफ सदस्यों एवं छात्रों के साथ अभद्र है जिसके कारण उसका कालेज में रहना अन्य छात्रों के लिए अहितकर है तो अनुशासनहीनता के आधार पर छात्र को निष्कासित करने का पूर्ण अधिकार प्रधानाचार्य का होगा।
2.छात्र पढ़ार्इ या खेल दोनों के निर्धारित मापदण्डों एवं स्तर तक नहीं पहुंचता है।
3.उन सभी कारणों से जो कि प्रदेशीय शिक्षा संहिता में अंकित है।
4.स्पोर्टस कालेज में छात्र पूरे उत्तराखण्ड से चयनित होकर आते है अत: उन्हें तीन वर्ष के अन्तर्गत कम से कम अपनी आयु वर्ग की राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में उत्तम स्थान प्राप्त करना अनिवार्य है। यदि कोर्इ भी छात्र इस अवधि में अपने खेल में न्यूनतम स्तर की उपलबिध प्राप्त नहीं कर पाता है व विशेषज्ञ समिति द्वारा भी सन्तोषजनक आख्या नहीं दी जाती है तो उसे कालेज में अगले सत्र से न रखने का भी निर्णय लिया जा सकता है।
5.छात्र के गम्भीर अस्वस्थताचोटिल होने की सिथति में भी कालेज से मुक्त किया जा सकता है। (व्यय वसूली लागू नहीं)

खेल/शैक्षिक मूल्यांकन तथा कक्षोन्नति :
छात्र की शैक्षिक तथा खेल प्रगति का मूल्यांकन मासिक, त्रैमासिक, अद्र्धवार्षिक तथा वार्षिक परीक्षाओं एवं उपसिथति के आधार पर किया जायेगा तदानुसार ही छात्र को कक्षोन्नति प्रदान की जायेगी। सत्र की समापित पर प्रत्येक छात्र का खेल विशेषज्ञ समिति द्वारा वार्षिक खेल मूल्यांकन किया जायेगा तथा इसमें अनुपयुक्त घोषित किये जाने पर छात्र को निष्कासन की संस्तुति की जायेगी।

सत्रान्त पर छात्रों को सम्बनिधत खेल व पढ़ार्इ के निर्धारित स्तर तक न पाये जाने पर उसे अनिवार्य रूप से विधालय छोड़ना होगा।

पुन: प्रवेश :
किसी भी कक्षा में (कक्षा 6 से 11 तक) अनुत्तीर्ण होने पर छात्र को निम्नांकित दशाओं में ही पुन: प्रवेश का केवल एक ही अवसर प्रदान किया जायेगा :-

1.उपरोक्त कक्षाओं में शिक्षा में अनुत्तीर्ण होने वाले छात्र को उसी कक्षा में पुन: प्रवेश तभी प्रदान किया जा सकता है जबकि वार्षिक खेल मूल्यांकन में समिति ने उसके विशिष्ट कौशल के आधार पर उसके उदीयमान होने की संभावना व्यक्त की हो। या अनुत्तीर्ण होने का कारण राष्ट्रीयअन्तर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताशिविर में प्रतिभाग करने गया हो।

2.वार्षिक खेल मूल्यांकन में किसी कक्षा में छात्र के एक बार अनुत्तीर्ण होने पर उसे एक पुन: प्रवेश का अवसर तभी प्रदान किया जायेगा जब उसने उसी वर्ष शिक्षा में कक्षा में अच्छा प्रदर्शनअंक प्राप्त किये हो व छात्र का आचरण अच्छा व छात्र अनुशासित हो।

3.कक्षा 8 व 10 की परीक्षा में उत्तीर्ण होने के उपरान्त भी विशेषज्ञ मूल्यांकन समिति द्वारा छात्र का गहन परीक्षण व विगत वर्षो का रिजल्ट व अनुशासन आदि का परीक्षण करने के उपरान्त संस्तुति के आधार पर ही आगे प्रवेश दिया जायेगा।

नोट:छ: वर्षो में किसी कक्षा में पुन: प्रवेश हेतु सब कुछ सामान्य होने की सिथति में छात्र को मात्र एक अवसर उपरोक्त दशा में ही प्रदान किया जायेगा, अन्यथा छात्र को कालेज छोड़ना होगा।

प्रगति पत्र :
छात्र के पूरे सत्र के कार्यकलाप एवं प्रगति के विषय में अभिभावकों को सूचित किया जाता है।